| English
EdgeL
मौसम पूर्वानुमान
विद्या दान
विद्यादान से आशय

वर्तमान में अच्छे शिक्षकों की कमी एक राज्य व्यापी समस्या बन चुकी है। हमारे जिले के विभिन्न शालाओं में भी शिक्षकों की कमी है। उच्च शिक्षित विषय के विद्वानों की सेवाएं ऐसे विद्यालयों के बच्चो को मिल सकें जहॉं विषयगत शिक्षक पदस्‍थ नही है इसी ध्येय के साथ विद्यादान समूह के गठन की शुरूआत की जा रही है। ऐसे महानुभाव जो अन्य व्यवसाय में संलग्न है अथवा सेवानिवृत्‍त है वे अपने निकट की शाला में जाकर अध्या‍पन कर सकते है। इससे विषय शिक्षकों की कमी दूर तो होगी ही साथ ही सामुदायिक सहभागिता भी बढेगी।


उद्देश्‍य
  • विद्यालय में गुणवत्ता युक्‍त शिक्षा सुनिश्चित करना।
  • विद्यालय में विषय शिक्षकों की कमी दूर करना।
  • विद्यालय में विषय विशेषज्ञों की सेवाएं लेना।
  • विद्यार्थीयों के जीवन कौशल का विकास करना।
  • विद्यार्थियों में रचनात्मकता की प्रवृत्ति विकसित करना।
  • हमर लईका-हमर स्कूल की अवधारणा को विकसित करना।
  • विद्यार्थियों का सर्वागीण विकास करना।
  • विद्यालय तथा समाज के बीच जीवंत सम्पर्क कायम करना।

विद्यादान से प्रेरण

हमारी सोच है कि विभिन्न क्षेत्रों से जुडे व्यक्ति जब शाला में विद्यादान के तहत अध्यापन करेंगे तो न केवल वे विषयगत ज्ञान देंगे अपितु अन्य व्यवहारिक एवं व्यापारिक ज्ञान भी देंगे, जिससे विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा एवं शिक्षकों के ज्ञानार्जन में वृद्धि होगी तथा लोगों की सोच में परिवर्तन आयेगा और विद्यालय के प्रति सकारात्मक सोच रखते हुए अपने जिम्मेदारी भी समझ सकेंगे।


विद्यादान कौन कर सकता है

प्रत्येक मनुष्य विभिन्न स्तरों पर सतत् रूप से ज्ञानार्जन करते रहता है और उसकी सहज प्रवृत्ति होती है कि वह अर्जित ज्ञान को बांटे। इसके लिए उचित मंच के अभाव में वह इस ज्ञान को अपने मित्र समूह के मध्य तथा परिवारजनों के बीच विनिमय करता है। यह उसके नैसर्गिक शिक्षिकीय गुण का परिचायक है। मनुष्य के इसी नैसर्गिक गुण को लक्षित कर विद्यादान समूह का संघटन किया जा रहा है। इसमें समाज के समस्त विद्वजन तथा समस्त कार्यरत एवं सेवानिवृत्‍त अधिकारी, शिक्षक, कर्मचारी सम्मिलित हो सकते है। इसके लिए वे जिला शिक्षा अधिकारी/विकास खण्ड शिक्षा अधिकारी अथवा संबंधित विद्यालय के प्राचार्य/प्रधान पाठक से सम्पर्क कर अपनी सेवायें प्रदान कर सकते है। इस हेतु जिला शिक्षा अधिकारी को vidyadaandurg@gmail.com पर ई-मेल के माध्‍यम से भी आवेदन प्रेषित किया जा सकता है।


विद्यादान आवृत्ति

विद्यादान की प्रक्रिया समस्त प्राथकिता स्तर से उच्चतर माध्यमिक स्तर तक सततृ रूप से आवश्यनकतानुक्रम में सम्पेन्न की जावेगी तथा यह समूह के सम्माननीय सदस्यों के सुविधानुसार सम्पन्न होगी।


स्‍कूल जहां विद्यादान की आवश्‍यकता है

विद्यादान में आपकी सहभागिता

विद्यादान समूह में अपनी सहभागिता सुनिश्चित करने के लिये आप जिला शिक्षा अधिकारी, दुर्ग (छ.ग.) को vidyadaandurg@gmail.com पर ई-मेल के माध्‍यम से आवेदन प्रेषित सकते है अथवा संबंधित विद्यालय के प्राचार्य/प्रधान पाठक से सम्पर्क कर अपनी सुविधानुसार कार्य कर सकते है। संबंधित विद्यालय के प्राचार्य/प्रधान पाठक संस्था के आवश्यकतानुक्रम में आपको समय-समय पर ससम्मान आमंत्रित कर आपकी सेवायें संस्था के हित में लेंगे।


संपर्क करें
Address

जिला शिक्षा अधिकारी,
दुर्ग(छ.ग.)

EMail vidyadaandurg@gmail.com
Phone 0788-2322345